अपने फेसबुक पेज के माध्यम से ई-पुस्तकों का प्रचार-प्रसार कैसे करें

By on मार्च 17, 2017 in Sales and Marketing, Self-Publishing Tips

Pin It

यदि आप अमेजन केडीपी जैसे स्वाभाविक मार्गों के द्वारा स्वयं-प्रकाशन कर रहे हैं तब किसी योजना का  यथास्थान रहना आवश्यक है। उदाहरण के लिए, यदि आपकी मेलिंग-सूची में आपकी पुस्तक के विमोचन के लिए अनेक व्यक्ति प्रतीक्षा-रत हैं, तब एक बार इसके अमेजन वेबसाइट्स पर उपलब्ध होने पर आप इसका विक्रय देखेंगे। यदि आपके पास कोई योजना नहीं है, तब आपके नाम पर एक भी प्रति का विक्रय पंजीकृत करने में कम से कम दो सप्ताह लग सकते हैं। विक्रय में धकेल लाने के लिए अतिरिक्त विपणन प्रयास अनिवार्य हैं।

सौभाग्य से, महात्वाकंक्षी लेखकों के लिए संभाव्य क्रेताओं को उनकी ई-पुस्तकों के संबंध में भिज्ञ कराने के लिए सोशल मीडिया ने एक बड़ी भूमिका का निर्वहन किया है। और भी बेहतर, विपणन वृत्तिधारियों को भारी शुल्क का भुगतान करने के लिए बाध्य हुए बिना, लेखक इसे स्वयं कर सकते हैं। व्यापार का प्रचार-प्रसार करने के लिए, और इसमें ई-पुस्तकें भी सम्मिलित हैं, फेसबुक चरम प्रचलित और प्रभावी सोशल मीडिया मंच रहा है। अपने विपणन पहलों के लिए फेसबुक पेज का अधिक से अधिक लाभ कैसे उठाएँ, इसे जानने के लिए आगे पढ़िए।

फेसबुक पेज की सृष्टि करें

आरंभ करने के लिए, आपको एक फेसबुक पेज बनाना पड़ेगा। निर्धारित करें कि फेसबुक पेज किसी लेखक के रूप में आप पर नामित किया जाएगा, या यह केवल आपकी कृतियों में से किसी एक पर ध्यान-केंद्रित करेगा। जब आप अनुवर्ती पुस्तकों का विपणन आरंभ करेंगे तब आपका नाम अधिक सुविधाजनक रहेगा, वहीं दूसरा आपके अनुगमनकारी पाठक-वृंद को श्रेणीबद्ध करने में सहायक होगा, इसलिए उसे ही चुनिए जो आपके लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सर्वोत्तम होगा।

सुनिश्चित कीजिए कि आपका विवरण अच्छा है

यदि आपके फेसबुक पेज के लिए आपके पास पाठक हैं, एक टैब जिसे उनके द्वारा क्लिक किए जाने की सबसे अधिक संभावना वह है ‘अबाउट’। यहाँ उन्हें आपके पेज का विवरण मिलता है और वापस आपके वेबसाइट के लिए लिंक मिलता है। सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने और अपनी कृति के संबंध में एक विवरण लिखते हैं, जो चित्ताकर्षक और लुभावना है। और यह लोगों को पेज के दाहिने तक देखने और आपके वेबसाइट यूआरएल तक जाने के लिए लुभाता है।

लक्ष्य जनसांख्यिकी के आधार पर विषय-वस्तु पोस्ट करें

आप अपने फेसबुक पेज से कौन सी छवि व्यक्त करना चाहते हैं? अपने पाठकों पर उनके आयु-वर्ग, व्यक्तित्व एवं वृत्ति के अनुसार विचार करें। यदि आप व्यापार पर किसी ई-पुस्तक का विपणन कर रहे हैं तब अपने पोस्ट्स का स्वर प्रोफेनल रखना चाहेंगे। वहीं, युवा वयस्क फोटोचित्रों और इन्फोग्राफिक्स जैसे दृष्टिगोचर विषय-वस्तुओं से अधिक प्रभावनीय होंगे। जो भी आपका लक्ष्य दर्शक-वर्ग है वह आपको इसे निर्धारित करने में सहायता करेगा कि आप किस प्रकार के आवरण चित्र और पर्श्वचित्र छवि का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, आवरण चित्र आपकी ई-पुस्तक का आवरण हो सकता है, वहीं पार्श्वचित्र छवि आपके चेहरे की उपयुक्त छवि हो सकती है।

अपने पोस्ट की बारंबारता पर रणनीति के अनुसार निर्णय लें

अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट्स की गोलाबारी आपके अनुगामियों में खीझ पैदा करेगी और विषय-वस्तु उत्पन्न करने में अधिक समय लेने पर उनमें आपके संबंध में विस्मृति लाएगी। जितनी अधिक दृष्टिगोचरता संभव हो सके उसके लिए अनिवार्य है अपने पोस्ट्स को रणनीति के अनुसार अनुसूचित करना। दर्शकों की व्यापक सीमा तक पहुँचने के लिए दिन में दो बार अद्यतनीकरण का लक्ष्य रखें, एक बार सुबह, और एक बार तीसरे पहर।

अपने ई-बुक के संबंध में अत्यधिक बातें करने से बचें

निश्चित रूप से, आपके फेसबुक पेज से दुनिया को आपके उत्पाद के संबंध में जानकारी दिए जाने की अपेक्षा की जाती है। फिर भी, अधिक स्वयंसेवी होना आपके उद्देश्य में सहायता नहीं करेगा। फेसबुक उपयोगकर्ता रोचक एवं सहायक विषय-वस्तुओं को पसंद करेंगे। इसके प्रतिदान में, वे आपको एक प्रवीण समझेंगे और आप अपनी ई-बुक के द्वारा जिस सूचना, या मनोरंजन को उनके लिए उपलब्ध कर रहें हैं उसके लिए भुगतान करने के लिए अधिक इच्छुक रहेंगे। उदाहरण के लिए, यदि आप यात्रा पर ई-बुक का विक्रय कर रहे हैं, तब आप अपने संभाव्य ग्राहकों के लिए व्यावहारिक गुर या अनुशंसित गंतव्यस्थलों को पोस्ट कर सकते हैं।

अपनी ई-पुस्तक का प्रचार-प्रसार करने में सहायता के लिए दूसरों को लीजिए

आशा है कि मित्रों की एक प्रभावकारी सूची का निर्माण करने के लिए आप उपने मुख्य फेसबुक अकाउंट का भी उपयोग कर रहे हैं। इसमें अन्य रचनाकार और लेखक, और उद्योग विशेषज्ञ भी सम्मिलित हो सकते हैं। ऐसे व्यक्ति अपनी विषय-वस्तुओं को भी फेसबुक के द्वारा साझा कर रहे होंगे।

जब कभी भी आपको कोई दिलचस्प निबंध, वीडियो या पॉडकास्ट मिले जो आपके फेसबुक पेज के अनुगामियों को रोचक लगने वाला हो, तब विषय-वस्तु के निर्माता के नाम के पर एक संक्षिप्त नोट और उन्हें धन्यवाद देते हुए, उदारतापूर्वक इसका साझा करें। वह निर्माता लक्ष्य करेगा कि आपने उसकी विषय-वस्तु का अपने पेज पर साझा किया है, और अधिक संभावना है कि वह इसके बदले आपके पेज से आपकी ई-पुस्तक से संबंधित विषय-वस्तु का अंश अपने मित्रों के साथ साझा करेंगे।

Hiten Vyas is the Founder and Managing Editor of eBooks India. He is also a prolific eBook writer with over 25 titles to his name.
Pin It

Comments