किसी लेखक के रूप में अपने समय को इष्टतम करने के लिए 5 गुर

By on अप्रैल 16, 2017 in Self Help

समय एक मूल्यवान सामग्री है और कोई भी चाहेगा कि यह उसके पास अधिक हो। यदि आप एक लेखक है, तब यह और भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। लिखते हुए आपको हर समय अंतिम तिथि का सामना करना पड़ता है और लेखकों के अवरोध (writer’s block) के साथ आप कुछ भी भविष्यवाणी नहीं कर सकते या कोई भी अनुसूची नहीं बना सकते। यदि आप कोई भी काम करना चाहते हैं तब आपको वास्तव में अपना समय इष्टतम करना पड़ेगा। यदि आप ऐसी ही स्थिति में हैं, तब किसी लेखक के रूप में अपना समय इष्टतम करने के लिए यहाँ 5 गुर दिए गए हैं:

1. लक्ष्य निर्धारित कीजिए

कई लेखक बहुत अधिक समय नष्ट करते हैं क्योंकि उनके पास कोई भी स्पष्ट लक्ष्य नहीं होता, जिसका अर्थ है कि उनके पास ऐसा कुछ भी नहीं होता जिसके लिए काम करना हो और इस प्रकार गलत चीजों के पीछे समय और प्रयास वृथा करते हैं। आपको लक्ष्य निर्धारित करने की आवश्यकता है। यदि आपको बड़े लक्ष्य प्राप्त करने में कठिनाई हो रही है, तब आप उन्हें छोटे टुकड़ों में विभाजित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, कोई लक्ष्य जिसमें आपको एक सप्ताह में 10 पृष्ठ पूरे करने की आवश्यकता है, उसे छोटे लक्ष्यों में विभाजित किया जा सकता है: 2 पृष्ठ प्रतिदिन में।

2. अपने पुराने निबंधों की प्रतिलिपियाँ रखिए

प्रत्येक नई परियोजना के आने पर बार-बार आपको शोध करने की आवश्यकता नहीं है। यदि आप बहुत दिनों से लिख रहे हैं, तब संयोग है कि आपके पास कोई पुराना निबंध है जिसमें इस शीर्षक के साथ पहले ही निपटा गया है। उन्हें बाहर निकालिए और जो सूचना आपने पहली बार एकत्रित की थी उसका पुनरावलोकन कीजिए। तब बिल्कुल नए से आरंभ करने के बदले आपको केवल इसकी यथार्थता के लिए दोबारा जाँच करने की आवश्यकता है (यदि कोई नई सूचना उपलब्ध हो, वैसी स्थिति के लिए)। तथापि, यह सुनिश्चित कीजिए कि आप पुराने निबंधों का उपयोग केवल उल्लेख के लिए या विचारावेश के लिए करते हैं। पुराने निबंध को फिर से लिख कर इसे नई पुस्तक के रूप में चलाने के प्रलोभन में नहीं पड़िए।

3. कहानी लिखने का उपकरण हमेशा साथ रखिए

अतीत में, कलम और कागज के समान सामान्य चीजों की आवश्यकता होती थी, परंतु आजकल स्मार्टफोन्स में भी काम करने वाले वर्ड प्रोसेसर होते हैं, इसलिए अधिक सोचने की बात नहीं है। किसी भी समय सरस्वती प्रकट हो सकती हैं, और आप अपने लिखने के उपकरणों का कभी भी प्रयोग कर सकते हैं। इसलिए उन चीजों को लिख कर या टाइप कर रख लीजिए जो आगे चल कर उपयोगी हो सकती हैं।

4. अवकाश लीजिए

जब आप काम कर रहे होते हैं तब अत्यंत तीव्र गति से काम करना अत्यंत लोभनीय हो सकता है जिससे आप सब-कुछ पूरा कर सकें और अंत में आराम करने के लिए कुछ समय ले सकें। यह नहीं कीजिए। प्रत्येक कुछ दिनों के अंतराल पर अवकाश लीजिए और अपनी सामान्य गति से कार्य कीजिए। विशेष रूप से चूंकि लेखकों को, जैसे ही वह लिखने का एक काम समाप्त करते हैं दूसरा चालू होने के लिए तैयार रहता है – इसलिए उन्हें कभी भी करने के लिए काम की कमी नहीं होती, इसलिए इसे करते हुए स्वयं को गला देना बहुत आसान हो सकता है। केवल चीजों को पूरा करने के लिए यदि आप तेजी से काम करते हैं, तब यह आपको नौसिखियों के समान प्रूफशोधन गलतियों के लिए और घटिया गुणवत्ता के लिए प्रवण बना सकता है।

5. विषय-वस्तु सुधारने के पहले प्रारूप पूरा कीजिए

सामान्यतः, लिखना एक अंत-हीन कार्य है। हमेशा सुधार करने के लिए स्थान होते हैं और ऐसी चीजें होती हैं जो पहले ठीक काम करती थीं, परंतु कुछ परिवर्तनों के साथ बेहतर कार्य करेंगी। यदि आप विषय-वस्तु में तोड़मरोड़ करते हुए अपनी कृति को बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक पैरग्राफ या अध्याय को दोहराते रहते हैं, तब आप पुनर्लेखन में बहुत सा समय नष्ट करते हैं जिसे बाद में वैसे भी नकार दिया जाएगा। यह इस तथ्य के कारण और भी बदतर हो जाता है कि जब आप कहानी में आगे बढ़ते हैं, तब छोटी-छोटी चीजों को बदलने का अर्थ होगा कि केवल चीजों को सुसंगत बनाए रखने के लिए आपको कृति के दूसरे भागों को भी बदलने के लिए वापस लौटना पड़ेगा। इसलिए, वापस लौट कर विषय-वस्तु में काट-छाँट करने से पहले, एक कार्यकारी प्रारूप पूरा कर लीजिए। इस ढंग से, यदि आप बदलाव करते हैं, तब आपको स्पष्ट अवधारणा रहेगी कि कहाँ से चीजों को जाना चाहिए और कहाँ सुसंगतता बनाए रखने के लिए आपको एक को छोड़ कर आगे बढ़ने की आवश्यकता है।

Hiten Vyas is the Founder and Managing Editor of Writing Tips Oasis.

Comments