5 निर्णायक तत्व जिनकी आपके ऐतिहासिक कल्पना-साहित्य उपन्यास को आवश्यकता है

By on मई 21, 2017 in Fiction, लेखन युक्तियाँ

5 निर्णायक तत्व जिनकी आपके ऐतिहासिक कल्पना-साहित्य उपन्यास को आवश्यकता है

ऐतिहासिक कल्पना-साहित्य की आधारभूत परिभाषा होगी: अतीत के किसी युग में अवस्थापित कोई कहानी, जिसका लेखक ने शोध किया है, परंतु इसे अनुभव नहीं किया था। यह परिभाषा कुछ शुष्क लगती है, तथा विधा के वास्तविक अर्थ को धारण करने में असफल होती है, जिसे अतीत को जीवंत करना है। उदाहरण के लिए, जब कोई व्यक्ति कोई इतिहास की शुष्क पुस्तक पढ़ता है, उसे ज्ञात होता है कि क्या हुआ था, यह कैसे हुआ था, और कब हुआ था। परंतु जब कोई व्यक्ति ऐतिहासिक कल्पना-साहित्य उपन्यास पढ़ता है, तब उस व्यक्ति को अंतिम पृष्ठ पढ़ना चाहिए और अनुभव करना चाहिए कि वह जानता/ती है कि अतीत में रहना कैसा लगा था। इसका सार यह है, कि ऐतिहासिक कल्पना-साहित्य लेखक को इसे समझने तथा पृष्ठों पर प्रस्तुत करने की आवश्यकता है, और निम्नलिखित, हमने दर्शाया है कि इसे उपलब्ध करने के लिए ऐतिहासिक कल्पना-कथा को किन निर्णायक तत्वों की आवश्यकता है।

1. अवस्थापन

सब-कुछ अवस्थापन से आरंभ होता है। एक बार जब आपने उस युग को चुन लिया है जिसमें आपकी कल्पना-कथा अवस्थापित है, तब आपको इसकी आत्मा को ग्रहण करने की आवश्यकता है। उस युग में रहना कैसा लगता था इसे दर्शाने के लिए, कि उस शहर, गाँव या नगर की गलियों पर टहलना कैसा लगता था, लोग क्या करते थे और अपना समय कैसे व्यतीत करते थे, चीजों का एकमात्र भाग है जिस पर आपको शोध करना है, तथा कुछ अंशों में कल्पना करना है। इसका अर्थ है कि आपको शब्द निर्माण में बहुत ध्यान देना है – विशेष रूप से, जब आपके पात्रों के दैनंदिन जीवन की बात आती है।

2. संवाद

अतीत में लोग भिन्न तरह से बातें करते थे। यह दिया हुआ है, और लोग कैसे बातें करते थे, यह आपको केवल उन उपन्यासों को पढ़ने पर ज्ञात होगा जो वास्तव में उस युग में लिखे गए थे। तथापि इसका अर्थ यह नहीं है कि आपके उपन्यास में संवाद उस प्रणाली से पूर्णतः भिन्न होने की आवश्यकता है जिससे हम आज बातें करते हैं। यदि यह पूर्णतः भिन्न है, विशेष रूप से यदि संवाद उस प्रणाली से पूर्णतः भिन्न है जिससे अग्रणी सोचता है, तब कई पाठक इसमें भटक जाएँगे। और यह महत्वपूर्ण है, विशेषतः यदि आप उत्तम पुरुष के दृष्टिकोण से लिख रहे हैं – जिस तरह अग्रणी उच्च स्वर से बोलता है तथा अपने परिवेश का प्रक्रमण करता है उसे उस प्रणाली को प्रतिबिंबित करने की आवश्यकता है। आपको एक उचित संतुलन ढूँढ़ने की आवश्यकता है – आपके पात्रों को इस तरह बोलना चाहिए जो सुनिश्चित करता है के वे दोनों उस समयावधि के लिए प्रामाणिक हैं तथा पाठकों के लिए बोधगम्य हैं।

3. पात्र

जब स्वयं पात्रों की बात आती है तब आपको स्मरण रखने की आवश्यकता है, अतीत के विभिन्न युगों के लोगों के जीवन पर परिप्रेक्ष्य भिन्न थे, उनकी प्राथमिकताएँ, सोचने के विविध उपाय भिन्न थे और यह उनकी कार्यवाहियों को निर्धारित करता है। उदाहरण के लिए, दो बहनें बड़ी बहन के वर्तमान प्रेम-प्रसंग की चर्चा कर रही हैं। आज के आधुनिक युग में, यह वार्ता प्रचुर खिलखिलाहटों, परिहास और मुस्कुराहटों से युक्त होगी। परंतु यदि यही वार्तालाप अतीत में होता है, तब इसके साथ फुसफुसाहटें होंगी (क्योंकि इसे गोपन में कहा जाता था), और छोटी बहन इसे कलंकगाथा भी मान सकती है। संभव प्रतिक्रियाओं और सोचने की प्रणालियों में इस अंतर का अर्थ है कि अतीत के विभिन्न युगों में आपकी कहानी विभिन्न उपायों से विकसित होगी, और इसका अधिकाश उस युग में रहने वाले व्यक्तियों, उनकी मनोदशा और उनके सोचने के तरीकों पर निर्भर करता है।

4. दृष्टिकोण

आपका अग्रणी चाहे कोई पुरुष, स्त्री, शिशु या नवयुवा है, भिखारी या राजा है, आपको उनके मन में प्रवेश करना है तथा उनकी मनोदशा समझना है। संसार को देखने के उनके दृष्टिकोण उस युग के अनुसार होने चाहिए जिसमें वे रहते हैं। कोई अग्रणी कहानी को बना या बिगाड़ सकता है, और जब ऐतिहासिक कल्पना-कथा की बात आती है, तब यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। आप कोई ऐसी कहानी नहीं रख सकते जिसमें पात्र का नैतिक कोड आज के नैतिक कोड को प्रतिबिंबित करता है – क्योंकि तब अग्रणी अवास्तविक लगेगा। तथापि इसका यह अर्थ नहीं है कि अग्रणी पूर्णपरिवर्तनकारी, या क्रांतिकारी विचार नहीं रख सकता, परंतु वह यदि रखता है तब इसे कुछ हल्का करना पड़ेगा, और इसे उस युग के अनुकूल करने के लिए आकार देना पड़ेगा जिसमें वह रहते हैं।

5. कहानी

मोटे तौर पर, पिछला तत्व आपकी कहानी को निर्देशित करेगा – निश्चित रूप से यह नहीं कहता है कि आपका इस पर कोई भी नियंत्रण नहीं है। आपको उस कथानक की आवश्यकता है जो विश्व की घटनाओं के गिर्द नहीं घूमता, परंतु फिर भी आपकी कहानी उनसे प्रभावित होगी। तथापि आपकी कहानी कैसे चलती है यह युग पर, चालू समय पर, और स्वयं पात्रों निर्भर करता है। यह आपकी ऐतिहासिक कल्पना-कथा लिखने के कार्य को और भी निरुत्साही बना देती है, और आपको सदा अपने दृश्यों तथा पात्रों की कार्यवाहियों को केवल कारण एवं प्रभाव के द्वारा जोड़ने के बारे में सोचने की नहीं, बल्कि पात्रों के आचरण के नियमों तथा के अनुसार कारण एवं प्रभाव के बारे में सोचने की आवश्यकता है जो आज से पूर्णतः भिन्न हैं।

Image credit: Pixabay

Georgina Roy wants to live in a world filled with magic. As an art student, she’s moonlighting as a writer and is content to fill notebooks and sketchbooks with magical creatures and amazing new worlds. When she is not at school, or scribbling away in a notebook, you can usually find her curled up, reading a good urban fantasy novel, or writing on her laptop, trying to create her own.

Comments

Post a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *